ज़िंदगी के रंग – 166

ये ज़िंदगी रोज़ नए सबक़ लेकर सामने आती है.

परेशानियों , उलझनों में उलझाती है .

कुछ ना कुछ सबक़ दिए जाती है.

क्योंकि

यह ज़िंदगी हम से प्यार करती है।

11 thoughts on “ज़िंदगी के रंग – 166

    1. क्या आपने अपना साइट delete कर दिया है ? जब भी खोलना चाहती हूँ यह जवाब मिलता है – ikanthika.Wordpress.com
      is no longer available.
      The authors have deleted this site.

      Like

      1. जी बहुत पुरानी थी वो। कल नई बनाई है। उसे देखिये

        Like

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s