पिंजरा

बंद पिंजरे को खुला पा

कर भी पंछी उड़ना भूल जाते हैं.

बंद दरवाज़े के पीछे ज़िंदगी जीते जीते

इंसान भी खुल कर जीना भूल जाते है .

4 thoughts on “पिंजरा

  1. बिल्कुल सही कहा। बचपन से रस्सी से बंधे हाथी बड़े होने पर भी रस्सी नही को तोड़ नही पाते या यूं कहें कि प्रयास नहीं करते ये सोचकर कि हम तोड़ नहीं पाएंगे क्योंकि बचपन मे काफी प्रयास जो कर चुके होते हैं। हम भी दास हैं किसी न किसी के आजादी जैसे भूल से गए हैं। कदम कदम पर बन्धन जिसे आसानी से तोड़ सकते हैं मगर सत्य और मजबूत मान तोड़ नही पाते।

    सामने खुला आसमान मगर जिंदगी गुजर जाती है साधारण मगर असम्भव सा दिखनेवाले बन्धनों में।

    Liked by 2 people

    1. आपने मेरी कविता का भावार्थ बिलकुल सही तरीक़े से स्पष्ट करदिया है।सचमुच हम आज़ाद होकर भी है बहुत सेबंधनों में बँधे रहजाते हैं। बहुत शुक्रिया मधुसूदन.

      Like

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s