ज़िंदगी के रंग – 162

दिल टूटने से रोना क्या ?

राहें रोकने वालो से डरना क्या ?

बाँस दिल छू जाती हवाओं को

बाँसुरी बन सुरीला बना देता है .

झरने राह रोकती चट्टानों पर

गिर कर भी कलकल की संगीत बना देते हैं.

शक्ति नहीं, हस्ती और आत्मबल अनमोल होती है .

22 thoughts on “ज़िंदगी के रंग – 162

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s