ज़िंदगी के रंग -160

इंसान की फ़ितरत होती है ,

मधुर यादों और

सुहानी कल्पनाओं में जीने की.

अपने अतीत की यादों

और भविष्य की संभावनाओं में

अपने को सीमित न करें .

2 thoughts on “ज़िंदगी के रंग -160

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s