मेरे मंदिरों में – कविता 

20150215_142406-1-1

मेरे मंदिरों में भी तुम सब

करते हो मोल -तोल.

कभी पुजारी और कभी भक्त बन कर.

बड़े पक्के हो ,

व्यापर करने में.

लेकिन क्या जानते हो ,

अपना अनमोल मोल ?

जो बिना किसी मोल -भाव

मैंने तुम्हें दिया ?

 

 

image from internet and rekha.

19 thoughts on “मेरे मंदिरों में – कविता 

      1. हाँ , दुनिया में बदलाव ज़रूरी हैं. हम अपने को सांस्कृतिक विश्व गुरु कहते हैं. पर अभी भी बहुत पीछे हैं. बहुत कुछ सीखना बाकी हैं. 😊 हैं ना ?

        Liked by 2 people

      2. Haan aur mujhe b pasand ni jab bhagwan ko koi tag karein, woh toh sabke h, sabse bade h, hamare pita h! unka mol priceless h jaisa hamara jo unke creation h. 🙂

        Liked by 2 people

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s